Saturday, February 25, 2017

62th day :: Computer hi Computer hai, Solution kuch pata nahi

आज की दुनिया में कंप्यूटर का बहुत महत्त्व है।  कंप्यूटर ने हमारे बहुत से काम आसान कर दिए है।  वास्तव में कंप्यूटर ने भगवान् का रूप ले लिया है।  आपको जानकार आश्चर्य होगा क़ि अब ये सिर्फ कहने की ही बात नहीं रह गयी है यह सच है , आज परम कंप्यूटर ने परमात्मा की जगह ले ली है।  हमसे जो कहा जाता है कि परमात्मा सब देख , सुन और जान रहा है , वो असल में कोई व्यक्ति होता है जो परम कंप्यूटरों के माध्यम से हमारी जानकारियां चुरा रहा होता है। दुनिया भर में कुल 50 -100  सुपर कंप्यूटर, परम कंप्यूटर या क़्वांटम कंप्यूटर होंगे जो इन्ही तरह के कामो में लगे है। अगर इनका उपयोग समाज की भलाई के लिए और बुरे लोगों के खिलाफ  होता तो शायद इतनी दिक्कत की बात नहीं थी लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हो रहा है , बल्कि इसका ठीक उल्टा यानी कुछ पावरफुल लोगों द्वारा आम लोगों के खिलाफ और scientists की कीमती जानकारिया चुराने में  हो रहा है।
आइये मैं आपको detail में बताता हूँ -

1.   Listener Computer :-  इस तरह के कंप्यूटर के द्वारा आपकी सभी बातें चाहे वो कितनी ही निजी क्यों न हो सुनी जा सकती हैं , यहां तक कि आपके बैडरूम की बातें भी। अब आप ही सोचिये कि दुनिया में कितने ऐसे लोग होंगे जो आपके बैडरूम की बातें जानकर  उसका सही इस्तेमाल करेंगे। आपकी बात सुनने के लिए ये शायद आपको एक ख़ास तरह का पेय या खाद्य पदार्थ आपको दे दें।

2.   Eye Reader :-  इस तरह के कंप्यूटर के द्वारा आपके द्वारा देखी जाने वाली हर चीज कोई दूसरा देख सकता है , यहां तक कि बैडरूम में आप क्या कर रहे हैं वो भी।  अब ऐसे दृश्यों का कितने लोग सही इस्तेमाल करते होंगे ? आपकी आंखों से देखने के लिए भी ये शायद आपको एक ख़ास तरह का पेय या खाद्य पदार्थ आपको दे दें।

3.   Mind Reader :-  इस तरह का कंप्यूटर ऊपर के दोनों कंप्यूटरों से ज्यादा खतरनाक है।  इसकी मदद से आप क्या सोच रहे हैं , ये भी पता लगाया जा सकता है।  आप सभी जानते हैं कि हमारा दिमाग एक ऐसी प्रयोगशाला है जिसमें 99 गलत प्रोडक्ट बनने के बाद ही एक सही प्रोडक्ट बनता है। ऐसे में हमारे 99 गलत प्रोडक्ट के आधार पर हमें कितना ब्लैकमेल किया जा सकता है? ऐसा करने के लिए भी ये शायद आपको एक ख़ास तरह का पेय या खाद्य पदार्थ आपको दे दें।

4.   Internet Reader :-   इस तरह के कंप्यूटर के द्वारा इन्टरनेट पर आपकी सारी  activities और histori  जैसे कि अभी आप नेट पर क्या कर रहे हैं , से लेकर past में आपने क्या-क्या सर्च किया , क्या देखा , क्या पसंद किया , क्या नापसंद किया।, एडल्ट डेटिंग साइट पर गए या नहीं , पोर्न देखा कि नहीं जैसी सारी जानकारियां जुताई जा सकती हैं और कहने की बात नहीं है कि इसके आधार पर आपको ब्लैकमेल भी किया जा सकता है।

5.  Some anti- Computers :-  ये कुछ ऐसे कंप्यूटर हैं जो खासकर ऊपर के कंप्यूटरों के प्रभाव से बचने के लिए बनाये गए हैं।  मैं इनके बारे में ज्यादा नहीं कहना चाहूंगा क्योंकि हो सकता है ये समाज की भलाई के लिए हों।

6.  Climate Change  :-  इस तरह के कंप्यूटर के द्वारा किसी भी तरह का मौसम परिवर्तन संभव है।  उदाहरण के लिए अगर satelight में एक बड़ा लेंस फिट कर के सूरज की किरणों को एक ख़ास दिशा में मोड़ दिया जाए तो उस दिशा में गर्मी और दूसरी दिशा में छाया या ठंडी हो जायेगी।

7.  Scary Scene Creater :-  इस तरह के कंप्यूटर द्वारा किसी के भी घर में scary scene create की जा सकती है।  जिसके लिए 3d sound , 3d picture , some light effect etc का इस्तेमाल किया जा सकता है। हो सकता है कि आपके घर के आसपास कुछ साउंड बॉक्स और मशीनें रखी हों , जिनसे 3d sound aur 3d picture create की जा रही हों और आपको लगता हो कि आवाज आपके घर के अंदर से आ रही है।  जैसा कि हेडफोन से 3d sound सुनते हुए लगता है , 3d picture के लिए हो सकता है कि टेक्नोलॉजी इतनी बढ़ गयी हो कि 3d picture के लिए आपको स्पेशल चश्मे की जरूरत न पड़े और आपको सब कुछ रियल लगे। जहाँ तक बिजली का सवाल है तो बोर्ड में एक चोट सा चिप लगा कर बल्ब में scary effect  दिया जा सकता है।

8.  Computers for medical tests :-  मेडिकल क्षेत्र में भी संभव है कि विभिन्न प्रकार की बीमारियां पैदा करने वाली दवाएं (खासकर एक निश्चित समय के बाद रियेक्ट करने वाली ) बनाने के लिए और genetically synthesized बीज , जानवर और इंसान भी बनाने के लिए इनका उपयोग होता हो।

वैसे अगर किसी भी ताकत का इस्तेमाल आम जनता की भलाई के लिए हो तो मैं  उसे सही मानता हूँ लेकिन इन ताकतों का सही इस्तेमाल नहीं हो रहा है। भले ही इनका आविष्कार समाज की भलाई के लिए हुआ हो लेकिन जैसा की कहावत है कि मोहब्बत और जंग में सब जायज है , उसी तरह या तो किसी के लगाव में या किसी  से नफरत में इन लोगों ने इंसानियत की सारी  सीमाएं पार  कर दी। हालात ये है कि एक दुश्मन की जानकारी जुटाने के लिए ये हजारों , लाखों लोगों की निजी जानकारियों से खिलवाड़ करने से नहीं चूकते।
अंत में मैं बस यही कहना चाहता हु कि इस तरह के ताकत का इस्तेमाल सिर्फ कुछ बुरे लोगों के खिलाफ जानकारी जुटाने के लिए और सीमित मात्रा में होना चाहिए अथवा इन्हें पूरी तरह से नष्ट कर दिया जाना चाहिए। 

No comments:

Post a Comment