Thursday, December 27, 2012

28th Day :: The condition of engineering colleges



I have found nowdays the condition of Engineering Colleges(especially under UPTU) are in a very bad condition. They are lacking basic facilities even they do not have teachers who have sufficient knowledge of subject & can teach the students effectively. Near about same condition is of medical colleges.
 If entrance exams are organized to test student's qualification then what is being done to test qualification of engineering and medical colleges.
 This condition is then when they charge a lot of money as fees  as compared to 10th or 12th level. I’m not saying that all 10th & 12th level  schools are in a good condition, but their average condition is well as compared to engineering & medical colleges. And if we talk about CBSE & ICSE board, then their average condition is very well.
 Infact engineering & medical colleges have converted from an educational place to a money-making shop. This problem increases with the’ Management Quota’ system by which college owner makes big money as ‘Donation’. A 2nd disadvantage of ‘Management Quota is that the students come from this quota are not much eligible & so disturb the class & good students.

27th Day :: Engineering 1st year syllabus



I have been a student of B.Tech.CS branch.    There I feel  that syllabus of 1st year needs a change. I couldn’t understand the use of the subjects like  Electrical,Physics,Chemistry & Mechanical  for a CS student & vice-versa. Infact this is the problem which causes failure of many students or Y.B. If the student  abstain from Y.B. in 1st year even then they faces this problem as a burden  in next years  as back paper of that subject which has no importance for his branch.

The 2nd problem a 1st year student faces is a new environment & a new educational system. So we should give less burden in 1st year .

The 3rd problem is internal exam. With 50% of the total marks in internal exam, student becomes more dependable on  teacher which results in bribe to the teacher & using unfair means by student to make percentage.

As a solution of these problems I recommend these advices :-

1.       Subjects should be lesser & easier in 1st year.

2.       Subjects should be related to his branch. For this unnecessary subjects should be removed & some chapters of 2nd year should be included.

3.       An inspirational subject may also be added who guides student in handling exam pressure & learning subjects in a better way etc.

4.       The percentage of internal marks should be decreased from 50% to 25%.

5.       Passing in internal exam should not be must instead of it agregate percentage in internal & external exam should be used for passing cut-off.

Wednesday, December 26, 2012

26th Day :: Some thoughts from me

  • "If you can't be the best then just be Different, you will be best"...!
  •  I strongly feel a need of career councelar  for students of 12th , who can guide about what should they do next on the basis of his performance, interest & job opportunity in the interested field.
  • what should we do for our country? We should believe in us, search for what we have at that time (instead of waiting for any special thing) & then use it for humanity.
  • May be it seems that we have only a zero while world have 1 to 9, still we(the Indians) have more important thing because without our zero the world can't earn even 10 rupees.
  • If we are right then we should fight with what we have instantly instead of waiting for any special thing or condition.
  • God gives us sometimes  unfavourable condition or the condition in which we are weak, because he wants to make us perfect.
  •  The greatest teacher in the world is your biggest enemy. because he throws u in a condition of 'Do or Die'. i.e. either be mighty & fight with him or accept death. There is no other condition more favourable than it for your Personality Development. Even this condition is only chance to know your weaknesses & show your power to the world.
  • Never follow the people by seeing only their majority or trend. Because their is no use of one more particle of sand in Dessert. Instead their need water. so want to be a drop of water in dessert. because even this small quantity of water may save a life.
  • We should not mean the word 'Angrez' as white faces instead we should mean it as the men who have looted us in the past including the men who are looting us in the present..!
  • For the works we think right, apply 'Do it now' & for the works we think wrong apply 'i will do it later or next time'.
  • Political tricks are like the arrows to which when we give space in our heart, it 1st kills our heart.
  • 'अच्छा देखो, अच्छा सुनो और अच्छा बोलो' instead of  'बुरा मत कहो,बुरा मत सुनो और बुरा मत बोलो'. दोनों लगते एक जैसे वाक्य हैं लेकिन उनमें एक minute difference है। क्योंकि मेरा मानना है कि जैसे हम सड़क पर गड्ढा देखे बिना उससे बाख नहीं सकते, ठीक उसी तरह बुराई से बचने के लिए हमें उसे देखना होगा। तभी हम उस बुराई से बच सकते हैं और उसे सुधार सकते हैं । बस हमें इतना सजग रहना होगा कि हम उस बुराई को कहीं अपना न लें ..!
  • अगर हम दूसरों की समस्या को सुलझाते हैं तो इसका मतलब है कि हम अपनी तरफ बढ़ते हुए एक खतरे को दूर से ही समाप्त कर रहे हैं अन्यथा अगले ही दिन वो समस्या हमारे सामने आ जायेगी और तब हमारी मदद करने वाला भी कोई नहीं मिलेगा।
  • जो चीज जितनी ही कीमती होती है , व्यक्ति उसे उतनी ही मज़बूत तिजोरी में रखता है। शायद इसीलिए दुनिया में कई नर्म दिल वाले बाहर से कठोर दिखाई देते हैं।
  • हमारी ये आदत है कि हम गन्दगी फैलाने वाले को तो कुछ नहीं कहते , मगर उसी गन्दगी को साफ़ करने वाले से घृणा करते हैं।
  • इस बात पर मुझे शायद थोडा संशय भले ही हो कि  भगवान वास्तव में है या नहीं , लेकिन इस बात पर मुझे तनिक भी संशय नहीं कि  जो लोग खुद को भगवान् घोषित करते हैं , वो कभी भगवान् नहीं हो सकते। बल्कि मैं  तो कहूँगा कि उनको इंसान भी कहलाने का हक नहीं है .
  • अच्छी या बुरी चीज़ें नहीं होती बल्कि लोगों की मानसिकता होती है। अच्छी मानसिकता वो है जिसका उद्देश्य सही हो और बुरी मानसिकता वो है जिसका उद्देश्य गलत हो। इसी तरह सही उद्देश्य वो है जिसमें अधिक से अधिक अच्छे  लोगों का अधिक से अधिक समय के लिए फायदा हो। कम से कम दूसरों के अहित की कीमत पर अपना फ़ायदा  न छुपा हो , वर्ना यही मानसिकता (दूसरों के अहित की कीमत पर अपना फ़ायदा लेने की प्रवृत्ति) बुरी बन जाती है !

Tuesday, December 25, 2012

25th Day :: The Golden Compass 2

मैंने अपने experiences से सीखा है कि अगर हम सही हैं तो  हमें अपनी समस्याओं के समाधान के लिए विरोध को हमेशा तैयार रहना चाहिए।
किसी गलत चीज़ का विरोध पहली बार मृदु भाषा में समझाने की शैली में ,  दूसरी बार गलती दोहराने पर कटु भाषा में चेतावनी की शैली में और तीसरी बार गलती दोहराने पर बेहद कटु शैली में इस तरह करना चाहिए कि फिर चाहे मार-पीट की नौबत आ जाए ,  दंगा हो जाए , धरती हिल जाए ,  आसमान फट जाए या मौत आ जाए ,  हमें अपना विरोध ज़ारी रखना चाहिए जब तक कि  हमारी समस्या का सम्पूर्ण समाधान न हो जाए।
कुछ मामलों में हम देखते हैं कि politicians जनविरोध को देखते हुए  त्वरित किन्तु आँशिक समाधान करके मामला शांत करने का प्रयास करते हैं। हमें यहाँ भी सजगता दिखानी चाहिए।
ध्यान रखें कि बदलाव तभी आ सकता है जब हम विरोध की शुरुआत करें तो किसी भी कीमत पर समस्या के समाधान से पहले न रुकें।
......................................! जय हिन्द !.......................................

24th Day :: The problems of problem makers



For many problems we blame politicians as ‘Guilty’, but ever we have thinked about the problems of  a politician. As a Voter is a unit of Democracy, Gram-Pradhan in village area or chairman in the town area is the unit of Politics at gross root level. So we can analyse the problem of whole politics by analyzing the problems  faced  by this unit of the Politics.

A Gram-Pradhan faces  these problems:-

1.       He have to spend money for  advertisement & to the Brokers. So he tries to make-up these expenses  when he won the election.

2.       He have to be chosen only  2 times in his whole life even if he does works honestly if he is from ‘General’ category  because of Rotation-Policy for reserved quota such as SC,ST,OBC or Women quota. So he have to spend whole life with the income in these 10 years maximum & alternate work after that.

3.       After  winning  the election he gets pressurized for giving bribe to the Officers even if he works honestly.

4.       He also gets pressurized for giving benefit to the men who have helped him in winning the election.



These are the problems when the Gram-Pradhan or politician is honest, & corruption increases  if he is not honest.

But what we can say about the corruption of Beurocrats. They have well paid salary even then they demand for  minimum of 10% of the whole amount of corruption being done  under him.Beurocrats blame for it to the politicians that they make pressure to do corruption.

But i say if they are honest, then  why they do not leave their percentage in corruption.



I don’t know what is the real solution of corruption but I definitely can say that it can be minimized to a large extent if  the Beurocrats want to do.

Jai Hind !

!………………. Be Cooool …………………!

Monday, December 3, 2012

23rd Day :: the Rape- Who suffers & who should suffer

Rape हमारे समाज की एक घृणित बुराई है, जिसको हमें ख़त्म करने का प्रयास करना ही होगा। इस बुराई को समाज से हटाने के लिए हमें सबसे पहले इसके कारण को समझने का प्रयास करना चाहिए। generally यह माना जाता है कि इसका मुख्य वजह सेक्स है, लेकिन मै  ऐसा नहीं मानता। मेरा मानना है कि सेक्स इसकी एक छोटी वजह है, जबकि main  वजह Rape को लड़कियों के खिलाफ सजा के रूप में इस्तेमाल करना है।
अक्सर लड़के को परेशान करने या बदला लेने के लिए उसके साथ मारपीट की जाती है, मगर ऐसी ही condition  में  लड़की के साथ Rape किया जाता है। क्योंकि Rapist जानता है कि  इससे लड़की समाज में अलग-थलग हो जाएगी और उससे शादी करने को कोई तैयार नहीं होगा। इस तरह Rape उस लड़की के लिए सजा बन जाती है।
जो लोग sex को Rape की मुख्या वजह मानते हैं  उनसे मै ये कहना चाहूँगा कि क्या हमारे देश में रेड लाइट  areas की कमी है , जहाँ आदमी अपनी जरूरत नहीं पूरी कर सकता या फिर शादी-शुदा आदमी Rape नहीं करता?
इसलिए इस समस्या के समाधान के रूप में मै सोचता हु कि हमें इसके कारण  को ही समाप्त कर  देना चाहिए। मतलब कि  अगर समाज Raped लड़की को accept करे तो यह समस्या बहुत हद तक solve हो सकती है। यानि कि अच्छे लडकों को Raped  लड़की  से शादी करने के लिए आगे आना चाहिए।
आखिर गलती Rapist करता है तो उसकी सजा हम raped लड़की को क्यों देते हैं? हम उस लड़की को अछूत क्यों बनाते हैं जबकि हमें Rapist को अछूत बनाना चाहिए।
2nd और कम उत्तरदायी कारण है- sex .  इसका भी solution है, समाज में live-in relationship को मान्यता देना और उसे स्वीकारना। क्योंकि आज के दौर में बहुत से लड़के-लडकियों को शादी या career में से career को प्राथमिकता देना मजबूरी होती है। जिससे वो 30-35 साल की उम्र में ही शादी के लिए तैयार हो पाते हैं। इसलिए उन्हें 20-35 वर्ष के बीच का समय बिना sex के बिताना पड़ता है।
इसलिए live-in relationships को मान्यता देने से Rape के मामलों में कुछ कमी तो आएगी ही , साथ ही Red-light-areas की संख्या में भी कमी आएगी।
इसका मतलब ये नहीं कि लिव इन रिलेशनशिप रेप का solution  है। solution के लिए हमें रैप के दोषी को निश्चित और कठोर सजा की व्यवस्था हमें करनी ही होगी। 

Saturday, December 1, 2012

22nd Day ::The Unemployment

जनसंख्या के बढ़ने के साथ-साथ हमारे देश में बेरोज़गारी की समस्या विकराल रूप लेती जा रही है। इसका  एक उपाय जनसंख्या को सीमित करना तो है ही, साथ में कुछ अन्य उपाय भी हैं।
असल में बेरोज़गारी की समस्या रोज़गार के अवसरों की कमी के कारण नहीं , बल्कि रोज़गार के अवसरों को न ढूँढ पाने के कारण ज्यादा है।
अक्सर हम भीड़ में भेड़ बन जाते हैं। हम अगर देखते हैं कि  हमारे पड़ोस का लड़का Doctor या engineer बनकर पैसा कमा रहा है तो हम भी doctor या engineer बनने  का प्रयास करने लगते हैं। भले ही हममें उस लड़के जैसी क्षमता न हो। नतीजा ये होता है कि हम उस  क्षेत्र में समय और पैसा दोनों बर्बाद करते हैं और कुछ बन भी नहीं पाते।
जबकि अगर हम अपनी क्षमता के अनुसार क्षेत्र का चुनाव करें तो सफल होने के चांसेस बढ़ जाते हैं।इसलिए हमें क्षेत्र का चुनाव अपनी रूचि , क्षमता और उस क्षेत्र में vacancy की संख्या देखकर करनी चाहिए न कि दूसरे छात्र की सफलता को देखकर !
क्षेत्र के चुनाव के लिये अगर हम हर लेवल पर career काउंसलर की मदद लें तो ज्यादा अच्छा  होगा।
अगर आपकी क्षमता कम है तो प्रतिस्पर्धियों से भरे पड़े पैसे वाले क्षेत्र की अपेक्षा कम पैसा वाला नया क्षेत्र आपकी सफलता की ज्यादा गारंटी दे सकता है।
कुछ इसी तरह की समस्या बिजनेस में भी है। मेरे ख्याल से एक बिजनेसमैन को जगह विशेष की जरूरत के अनुसार और उस क्षेत्र में अपनी कबिलियत  के अनुसार shop का चुनाव करना चाहिए।